वर्षान्त समीक्षा-2017 : पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय

0
268
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर, 2014 को महात्मा गांधी की जयंती पर स्वच्छ भारत मिशन (एसबीएम) का शुभारंभ किया।
  • इसका उद्देश्य 2 अक्टूबर, 2019 तक खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) राष्ट्र और स्वच्छ भारत बनाना है, जिससे उनकी 150वीं जयंती पर उपयुक्त श्रद्धांजलि दी जाए।
  • 2 अक्टूबर, 2014 को एसबीएम (जी) के शुभारंभ पर स्वच्छता क्षेत्र 38.70% था। यह 18 दिसंबर, 2017 को बढ़कर 74.15% तक पहुँच गया।
  • एसबीएम(जी) उपलब्धियाँ :-
  • स्वयं घोषित ओडीएफ जिलों की सं.- 255
  • नमामि गंगे में ओडीएफ ग्राम :- 4470
  • ओडीएफ राज्य/संघ शासित प्रदेश 8 हैं :- सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, केरल, उत्तराखंड, हरियाणा, गुजरात, दमन और दीव तथा चंडीगढ़।
  • स्वयं घोषित ओडीएफ ग्रामों की सं. :- 2,92,896
  • उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के 52 जिलों में स्थित सभी 4470 गांवों को राज्य सरकारों की मदद से खुले में शौच से मुक्त घोषित कर दिया गया है।
  • प्रधानमंत्री की प्रेरणा के अंर्तगत, मंत्रालय ने संपूर्ण भारत में ऐसे 100 स्थलों की स्वच्छता पर ध्यान केंद्रित करते हुए बहु-हितधारक पहल की है जो अपनी विरासत, धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व के कारण “प्रतिष्ठित” हैं।
  • इस पहल का लक्ष्य इन स्थलों में स्वच्छता की स्थिति में एक उच्चतर स्तर तक सुधार किया जाए।
  • इस पहल में शहरी विकास, पर्यटन और संस्कृति मंत्रालय के साथ एमडीडब्ल्यूएस एक नोडल मंत्रालय के रूप में साझेदारी में है।
  • स्वच्छ शक्ति का आयोजन 8 मार्च, 2017 को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर गांधीनगर के महात्मा मंदिर मे किया गया था।
  • प्रधानमंत्री ने संकल्प से स्वच्छ सिद्धि के अंर्तगत 2022 तक एक नया भारत बनाने का आह्वान किया।
  • व्यवहार परिवर्तन के लक्ष्य को लेकर, विशेष रूप से पुरुषों के द्वारा शौचालय के उपयोग को बढ़ावा देने के अमिताभ बच्चन के साथ दरवाजा बंद नामक शीर्षक से एक प्रगतिशील जन मीडिया अभियान का शुभारंभ किया गया है।
  • इस अभियान में हिंदी और 9 भाषाओं सहित 5 टीवी और रेडियो स्पॉट शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here